आपका भविष्य आपके हाथ में : ए. पी. जे. अब्दुल कलाम

आपका भविष्य आपके हाथ में : ए. पी. जे. अब्दुल कलाम

[su_box title=”आपका भविष्य आपके हाथ में : ए. पी. जे. अब्दुल कलाम” box_color=”#292370″ radius=”4″]

[su_table responsive=”yes”]

किताब का नाम: आपका भविष्य आपके हाथों में हैं
लेखक: ए. पी. जे. अब्दुल
भाषा: हिन्दी
पेज:  122
साइज:  42 MB
श्रेणी: प्रेरणात्मक

[/su_table]

पिछले कई वर्षों से मेरी टीम के सदस्य पूरे समर्पण और लगन से काम कर रहे हैं मेरे भाषण तैयार करने में भी मेरी मदद करते हैं और जहां भी मैं जाता हूं यह मेरे साथ जाते हैं मैं हजारों लोगों से मिलता हूं उनसे बातचीत करता हूं उन सब को भी बहुत ही बारीकी से नोट करते हैं उनके बनाए हुए नोट्स मेरे लिए एक स्रोत बन जाते हैं जिनके आधार पर अपनी सोच और मैंने क्या सीखा उस पर विचार करता हूं कई बार मैं सोचता हूं कि ये सब मेरे साथ काम क्यों करते हैं? आज तक मुझे इसका कोई उत्तर नहीं मिला शायद उनकी प्रेम प्रवृत्ति ही है और आपस में मेरे और उनके बीच एक तालमेल बैठ चुका है।

शेरेडन, प्रसाद, घनश्याम, पोनराज और जनरल स्वामीनाथन-मैं प्रत्येक का दिल से आभारी हूं मुझे बहुत अफसोस है कि यह पुस्तक प्रकाशित होने से पहले ही जर्नल आर स्वामीनाथन चल बसे मेरे दोस्त डॉ अरुण तिवारी और घनश्याम शर्मा ने इस पुस्तक को तैयार करने में उल्लेखनीय योगदान दिया हजारों ईमेल पढ़कर घनश्याम शर्मा ने उन्हें विषय अनुसार अलग-अलग वर्गों में संयोजित किया विषय की बेहतर प्रस्तुति के लिए अरुण ने बहुत मेहनत से अनेक ईमेल को एक साथ सम्मिलित किया और मेरे विचारों को वाक्यों में अभिव्यक्त करने में सहायता की मुझे राजपाल एंड संज विशेषकर मीरा जौहरी के साथ काम करने में बहुत खुशी हुई

मैंने अपने माता-पिता से यह बात सीखी कि हमारी जिंदगी जैसी भी है अच्छी या बुरी इस बात पर आधारित है कि हम ईश्वर के प्रति कितने कृतज्ञ में हैं मैं उन सभी लाखों युवाओं का आभारी हूं जो समय निकालकर मुझे लिखते हैं या अपने प्रश्न मुझे भेजते हैं हमारी कृतज्ञता की पहचान यह नहीं है कि हम ईश्वर के दिए वरदानों के बारे में क्या कहते हैं कृतज्ञता वह है कि हम उन वरदानों का कैसे सदुपयोग करते हैं अपने प्रिय पाठकों का आभारी हूं कि उन्होंने मन को भाने वाली हजारों चीजों में से मेरी है पुस्तक उठाई।

मैं आप सभी के लिए प्रार्थना करता हूं कि आपकी सभी आशंकाएं और अविश्वास कृतज्ञता में अपरिवर्तित हो जाएं

[su_button url=”https://ia601509.us.archive.org/34/items/20201209_20201209_1432/%E0%A4%86%E0%A4%AA%E0%A4%95%E0%A4%BE_%E0%A4%AD%E0%A4%B5%E0%A4%BF%E0%A4%B7%E0%A5%8D%E0%A4%AF_%E0%A4%86%E0%A4%AA%E0%A4%95%E0%A5%87_%E0%A4%B9%E0%A4%BE%E0%A4%A5_%E0%A4%AE%E0%A5%87%E0%A4%82_%E0%A4%A1%E0%A5%89_%E0%A4%90_%E0%A4%AA%E0%A5%80.pdf” target=”blank” background=”#f22222″ size=”6″ wide=”yes”]Click here To Download[/su_button][su_button url=”#” target=”blank” background=”#292370″ size=”6″ wide=”yes”]View On Amazon[/su_button]

[/su_box]

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *